February 27, 2021

एनपीएस टियर-2 अकाउंट को बचत खाते की तरह कर सकते हैं इस्तेमाल

अगर आप राष्ट्रीय पेंशन योजना (एनपीएस) में निवेश करते हैं तो क्या आपको पता है कि टियर-2 अकाउंट को बचत खाते के तरह भी इस्तेमाल कर सकते हैं। कर विशेषज्ञों का कहना है कि एनपीएस निवेशक आसानी से इस विकल्प का चुनाव कर सकते हैं। हालांकि, उनको इस तरह के खाते में चेकबुक प्राप्त नहीं होगा। निकासी ऑनलाइन ही करनी होगी और प्रत्येक निकासी पर एक तय शुल्क का भुगतान करना होगा।

मौजूदा समय में बचत खाता पर चार फीसदी से भी कम ब्याज मिल रहा है। वहीं, एनपीएस के टियर-2 अकाउंट पर आप 8 से 11 फीसदी तक ब्याज पा सकते हैं। एनपीएस में निवेश करने वाले कई फंड हाउस का रिकॉर्ड देखने पर यह पता चलता है कि आसानी से निवेशकों को शानदार रिटर्न मिला है।
अगर आप सरकारी कर्मचारी हैं तो एनपीएस में रखे 50 हजार रुपये तक के रकम पर कर छूट प्राप्त कर सकते हैं। आयकर की धारा 80सी के तहत यह छूट मिलती है। हालांकि, यह छूट पाने के लिए जरूरी है कि पैसा तीन साल के लिए लॉकइन में रखा गया हो। यानी तीन साल तक जमा रकम को आप नहीं निकालते हैं तो ही यह छूट मिलती है।

एनपीएस टियर-2 अकाउंट के लिए जरूरी है कि व्यक्ति का टियर-1 अकाउंट चालू हो। ऐसी स्थिति में व्यक्ति आधार और पैन कार्ड के जरिये आसानी से ऑनलाइन टियर-2 खाता खोल सकता है। सरकार ऑफलाइन भी खाता खोलने की सुविधा प्रदान करती है। 1000 रुपये की शुरुआती निवेश से कोई भी टियर-2 खाता खोल सकता है।

राष्ट्रीय पेंशन प्रणाली (एनपीएस) को और आकर्षक बनाने की तैयारी है। दरअसल, पेंशन कोष नियामक एवं विकास प्राधिकरण (पीएफआरडीए) ने अगले बजट में एनपीएस) के तहत नियोक्ताओं के 14 प्रतिशत के योगदान को सभी श्रेणियों के अंशधारकों के लिए करमुक्त करने का प्रस्ताव सरकार के समक्ष रखने का फैसला किया है। एनपीएस के तहत केंद्र सरकार के कर्मचारियों के लिए पेंशन में नियोक्ताओं के 14 प्रतिशत के योगदान को एक अप्रैल, 2019 से करमुक्त किया गया है। अभी यह सिर्फ केंद्र सरकार के कर्मचारियों को मिलता है। इसे सभी के लिए करने की मांग पीएफआरडीए ने किया है।