March 7, 2021

कोरोना और ठंड के बीच किन-किन राज्यों में फिर से स्कूल-कॉलेज खुलगी

4 जनवरी से देश के कई राज्यों के शैक्षणिक संस्थानों में एक बार फिर से चहल पहल लौट आई. कोरोना वायरस महामारी के चलते स्कूल, कॉलेज, यूनिवर्सिटी और कोचिंग सेंटर में कई महीनों तक सन्नाटा पसरा था|

कोरोना वायरस के खिलाफ चुनिंदा ग्रुप को टीकाकरण और ठंड के बीच कई राज्यों में कल से स्कूल एक बार फिर खुल गए. स्कूलों को दोबारा खोलने का फैसला कोविड-19 के मामलों में कमी होने पर लिया गया. हालांकि, ब्रिटेन के नए कोरोना वायरस स्ट्रेन की चिंता अभी भी बरकरार है. कोरोना वायरस के चलते कई महीनों से शैक्षणिक संस्थानों को बंद रखा गया था. ऐसे में दोबारा खोले जाने की अनुमति से उम्मीद की जा रही है कि छात्रों की पढ़ाई एक बार फिर पटरी पर लौट सकेगी|

बिहार में स्कूल और कॉलेज की कक्षाएं रोस्टर के अनुसार संचालित होंगी. शैक्षणिक संस्थानों में एक दिन में छात्रों की आधी संख्या रहेगी. कोरोना महामारी फैलने के बाद राज्य में सभी शैक्षणिक संस्थान करीब नौ महीने पहले बंद किये गए थे. शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अधिकारी संजय कुमार के मुताबिक शैक्षणिक संस्थानों को कोरोना वायरस गाइडलाइन्स का सख्ती से पालन करना होगा|

पुदुचेरी में 4 जनवरी 2021 से स्कूलों को पहली से 12वीं तक के छात्रों के लिए खोला गया. सरकार की गाइडलाइन्स के मुताबिक पहले चरण में 18 जनवरी तक आधे दिन यानी सुबह 10 बजे से दोपहर 1 बजे के लिए स्कूल खुले रहेंगे. उसके बाद पूरी कक्षाएं संचालित होंगी|
बिहार की तरह ही झारखंड में क्लास 10 और 12 के छात्रों के लिए स्कूल खोला गया. झारखंड एकेडमिक काउंसिल बोर्ड परीक्षाओं की तारीखों का जल्द एलान करनेवाला है. प्री-बोर्ड की तैयारियों को शिक्षा विभाग अंतिम रूप देने में जुट गया है|

अरूणाचल प्रदेश सरकार ने भी 8वीं, 9वीं और 11वीं के छात्रों के लिए स्कूलों को खोल दिया. इससे पहले 10वीं और 12वीं के छात्रों के लिए स्कूल 16 नवंबर 2020 से ही खोले जा चुके हैं. शिक्षा मंत्री तबा तेदिर ने बताया कि 8 से 12 तक के छात्रों के लिए क्लास का आयोजन नियमित रूप से होगा|

असम में प्राथमिक क्लास से लेकर यूनिवर्सिटी तक सभी स्कूल और शैक्षणिक संस्थानों को 1 एक जनवरी से खोला गया. कर्नाटक में 1 जनवरी से क्लास 6-12 तक के लिए स्कूलों को खोलने का आदेश दिया गया. कोरोना वायरस का हॉटस्पॉट रहे केरल में 1 जनवरी से आंशिक रूप से खोला गया. क्लास 10 और 12 के छात्रों के लिए सीमित घंटे और सीमित संख्या के साथ पढ़ाई की शुरुआत हुई|